लालच की इच्छा

उसके लालच की बेड़ी ने

जाने कितनी सीमा तोड़ी।

मर्यादाओं को भंग किया ,

बहती जीवन की धारा को ,

तुमने कितना है तंग किया।

बन कर सम्राट धरा का तू

समझे खुद को अविनाशी है।

पर अंत समय समझेगा तू

यह जीवन आपाधापी है।

जो नही मानना था तुझको

वो सदियों से तू मान रहा।

जो जान नही सकता है तू

उसके तू ज्ञान का स्वांग रचे।

इन रचनाओं को छेड़-तोड़

वसुधा को किया कलंकित है।

कृतियां जो रची थी प्रकृति ने

सब जीवो की हित रक्षा को

कब्जा करने को आतुर है

आदम का ये अधमी बच्चा

जब शुरू हुआ था सर उठना

तब से ही शुरू कहानी है।

आदम के लालच का हौवा

बन गया सभी का साथी है।

पेट भरे मानव की भूख

अब और भी बढ़ती जाती है।

क्योंकि उसके मन की इच्छा

कभी नही मर पाती है।

इस इच्छा का ये चक्र सदा

रचता आया इतिहास नया।

इच्छा का होना घातक है।

इच्छा का होना बाधक है।

इच्छा का होना जीवन है।

इच्छा का होना सृजन भी है।

इच्छा का होना गलत/सही

कह सकता कोई कभी नही।

सुख की इच्छा अपनी अपनी

कुछ हद तक ही लगता है सही।

जब उस सीमा को तोड़ोगे

दूजे के सुख को बेधोगे।

तुम इसमे पाकर सुख अपार

कर पाप पुण्य का कुछ विचार

आगे ही बढ़ते जाओगे

दूजो के नीड़ जलाओगे।

पर यह तृष्णा ऐसी ठहरी

जो बुझती है दावानल से

दावानल उठती भभक-भभक

करती कितने ही नीड़ ध्वस्त

ये बात नही समझाने की

ये बात नही बतलाने की

ये बात बड़ी ही सीधी है

बतलाते आए ज्ञानी जन।

मैं बात वही दोहराता हूँ

करके उनको शत बार नमन।

इस भौतिक सुख के साधन को

तुम केवल एक साधन मानो।

अपने जीवन का साध्य इसे

तुम सपने में भी ना मानो।

इस इच्छा की मृगतृष्णा को

तुम तभी जकड़ हा पाओगे

जब लालच की डोरी को बुन

एक छोटा जाल बनाओगे

तब ही जाकर पुलकित होकर

यह धरा गीत एक गाएगी

सुर ताल बद्ध लय में होकर

सब जीवो को दुलराएगी।

______________________________________

© Arvind Maurya

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s